Home संजीव शुक्ला

संजीव शुक्ला

बंटवारे के बहाने गांधी पर निशाना-bantavaare ke bahaane gaandhee par nishaana

अजीब तर्क है और धूर्तता भी कि गांधी तो कहते थे कि बंटवारा हमारी लाश पर होगा, फिर जीते जी उन्होंने बंटवारे...

हमारी राजनीतिक चेतना का सिकुड़ता सामाजिक बोध-The shrinking social perception of our political consciousness

आख़िर क्या हो गया है, हमारी मानवीय संवेदनाओं को? वे मानवीय मूल्यों के प्रति इतनी निष्ठुर कैसे हो गईं? लोग मर रहें...

सोशल मीडिया (फेसबुक) और रचना का क्रियाकरम-Social media and creation activity

फेसबुक पर कविता अब संक्रामक महामारी का रूप लेती जा रही है। यहाँ बहुतों ने बहुतों को कविता...

यह लिहाज ही है जिसका लिहाज है-Ye Lihaj hi hai Jiska Lihaj hai

हम लोग लिहाजप्रिय हैं। हम सभी कभी उम्र का तो कभी महिला का तो कभी परिवार का लिहाज करते पाए जाते हैं। ...

गिरफ़्तारी-Arrest

लोग बाग दिशा रवि की गिरफ़्तारी पर शुरू से ही बहुत बवाल काटे थे, कह रहे थे ये बहुत ही अलोकतांत्रिक निर्णय...

लोकतंत्र और आंदोलन-Democracy and Movement

लोकतंत्र सिर्फ़ एक राजनीतिक प्रविधि भर नहीं है और न सिर्फ़ एक संवैधानिक ढांचा भर है, क्योंकि कई बार संवैधानिक ढांचे में...

बजट की समझ-Budget Understanding

कुछ छिद्रान्वेषी  राजनीतिक विश्लेषक लोग पूछते हैं बजट में Budget कहाँ है। इसमें Budget जैसा तो कुछ है...

पुरस्कार हमारी जरूरत है, इसलिए जरूरी है-The prize is our need, so it is...

बड़ी ग़जब चीज है पुरस्कार !! यह स्वयं में उपलब्धि है। उपलब्धि इस मायने में कि कई बार...

“यह वर्ष हमें स्वीकार नहीं”-Ye New Year hume swikar nahi

कुछ लोग नए साल पर यह गीत गाकर कि "यह वर्ष हमें स्वीकार नहीं" पाश्चात्य-अनुकरण के प्रति अपने गहरे रंजो-गम व भारतीय...

खेती पर राजनीति-Kheti Par Rajneeti

खेती तो कभी भी फायदे की चीज नहीं रही साहब। चंपारण से लेकर आज तक। प्रेमचंद के होरी...

पसंद करे

134FansLike
5,000FollowersFollow
7,060SubscribersSubscribe

जरूर पढ़े

उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणामों के आयाम-Dimensions of Uttar Pradesh election results

जितने जीत के कारक हैं, उतनी हार की भी अपनी वजहें हैं। अगर नैतिक/अनैतिक दृष्टि से न देखा...

दलबदल एक क्रांतिकारी गतिविधि-Defection is a revolutionary activity

इधर भारतीय समाज में दलबदलुओं को कुछ ज़्यादा ही गिरी हुई निगाह से देखा जाने लगा है। राजनीतिक विशेषज्ञों और समाजशास्त्रियों की...

लता जी के अंतिम शब्द जरूर सुनिएगा-

0
लता मंगेशकर के अंतिम शब्दइस दुनिया में मौत से ज्यादा वास्तविक कुछ भी नहीं है।दुनिया की सबसे महंगी ब्रांडेड कार मेरे गैरेज...