“पुरस्कारों का दुत्कारीकरण”

संजीव शुक्ल इधर हम भारतीयों में एक सकारात्मक बदलाव आया है, वह है पुरस्कारों का...

“”पुलिया महात्म्य””

संजीव शुक्ल पुलिया, पुल का छोटा रूप है। यह पुल की विराटता-भयावहता के विपरीत सूक्ष्मता...

आखिर हम कितने लोकतांत्रिक हैं

संजीव शुक्ल हमारे देश में लोकतंत्र का इतिहास बहुत पुराना रहा है। लोकतांत्रिक इतिहास की...

आजाद और क्रांति

संजीव शुक्ल असहयोग आंदोलन के दौरान जब सत्याग्रही के रूप में बालक आजाद पर मुकदमा...

एक व्यंग्य “नासमझ मजदूर”

संजीव कुमार शुक्ला सरकार हमें घर की याद आ रही, अब हम घर जाना चाहते हैं। अब यहाँ...

एक व्यंग्य

संजीव कुमार शुक्ला ये बग्घा ट्रम्प शुरू से लकड़बग्घा था। इसकी चालाकी तो अब समझ में आई जब इसने अपने सारे...

दीवारों की अहमियत

संजीव कुमार दीवार शब्द सुनते ही पता नहीं क्यों दिल बैठने सा लगता है; अजीब-अजीब...

साम्प्रदायिकता और हम

संजीव कुमार शुक्ला आज जबकि पूरा देश, पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है, हमको अपने देश में कोरोना...

लड़ाई के सुर पर जूते की संगत

संजीव कुमार शुक्ला मेरा मानना है कि लड़ने के लिये मुद्दों की जरूरत नहीं होती बस आपके अंदर अदम्य इच्छाशक्ति...

आज की पत्रकारिता

संजीव कुमार शुक्ला पत्रकारिता के अपने मानक होते हैं। वह सोद्देश्यपरक होती है। लोकमंगल की कामना, उसका अभीष्ट है। मानवीय...

पसंद करे

134FansLike
5,000FollowersFollow
7,060SubscribersSubscribe

जरूर पढ़े

उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणामों के आयाम-Dimensions of Uttar Pradesh election results

जितने जीत के कारक हैं, उतनी हार की भी अपनी वजहें हैं। अगर नैतिक/अनैतिक दृष्टि से न देखा...

दलबदल एक क्रांतिकारी गतिविधि-Defection is a revolutionary activity

इधर भारतीय समाज में दलबदलुओं को कुछ ज़्यादा ही गिरी हुई निगाह से देखा जाने लगा है। राजनीतिक विशेषज्ञों और समाजशास्त्रियों की...

लता जी के अंतिम शब्द जरूर सुनिएगा-

0
लता मंगेशकर के अंतिम शब्दइस दुनिया में मौत से ज्यादा वास्तविक कुछ भी नहीं है।दुनिया की सबसे महंगी ब्रांडेड कार मेरे गैरेज...