केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ‌स्थापना दिवस-Central Reserve Police Force Raising Day

0
134

केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल स्थापना दिवस हर साल 27 जुलाई को मनाया जाता है।

भारत की हुकूमत में आंदोलन और राजनीतिक अशांति के रूप में कानून और व्यवस्था बनाए रखने में लगातार मदद करने की ‌इच्छा को ध्यान में रखते हुए साल 1936 में ग्राउंड रिप्रेजेंटेटिव पुलिस द्वारा मद्रास अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के संकल्प को ध्यान में रखते हुए केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की स्थापना की गई।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल मूलत: क्राउन रिप्रेंजेन्टेटिव पुलिस के नाम से साल 1939 को 27 जुलाई को मध्य प्रदेश में प्रथम बटालियन के साथ स्थापित किया गया।

स्वतंत्रता के बाद क्राउन रिप्रेजेन्टेटिव पुलिस को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल में परिवर्तित कर दिया गया। साल 1950 में पटियाला और पूर्वी पंजाबी राज्यों संग सभी इला को द्वारा केंद्र रिजर्व पुलिस बल कि सैन्य टुकड़ी के प्रदर्शन की सराहना की गई।

भारत संघ में हुकूमत के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आजादी के तुरंत बाद कच्छ, राजस्थान, और सिंध सीमाओं में घुसपैठ करने और सीमाओं पर अपराधों की जांच करने के लिए भी केंद्र रिजर्व पुलिस बल को ही भेजा गया।

उसके बाद पाकिस्तानी घुसपैठियों द्वारा हमला करने के बाद केंद्र जब पुलिस बल को पाकिस्तानी सीमा पर तैनात किया गया। इस बल की दूसरी बटालियन आज़ादी के बाद तुरन्त बनी थी और तीसरी बटालियन 1956 में बनी थी।

केरिपुबल आतंकवाद, नक्सलवाद तथा अन्य भयावह हालातों का सामना करता है। आज इसकी संख्या एक से बढ़कर 217 बटालियन की हो गई है। केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल विश्व का सबसे बड़ा एवं पुराना बल बन गया है।

अत: केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के लिए 27 जुलाई एक विशेष महत्वपूर्ण दिन है तथा प्रत्येक वर्ष इस दिन को ‘स्थापना दिवस’ के रूप में मनाया जाता है।

कार्य
केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल राज्य सरकारों की आवश्यकतानुसार उनके प्रशासन द्वारा दिए गए आदेशों के मुताबिक़ ही कार्य करता है।

बल का प्रमुख कार्य क़ानून व्यवस्था को बनाए रखना, विशिष्ट लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखना तथा देश के आंतरिक हिस्सों में असामाजिक तत्त्वों से निपटना आदि भी इसके प्रमुख कार्यों में से है।

इस तरह हर साल, 27 जुलाई को गेम रिजर्व पुलिस बल दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर सुबह में पहले झंडे को सलामी दी जाती है और इसके बाद आरपीएस के शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

https://www.pmwebsolution.in/
https://www.hindiblogs.co.in/contact-us/
मैं अंशिका जौहरी हूं। मैंने हाल ही में पत्रकारिता में मास्टर डिग्री हासिल की है। और मैं hindiblogs पर biographies, motivational Stories, important days के बारे में लेख लिखती हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here