दिवाली पर बदला-Diwali Par Badla

0
196
पुनीत मिश्रा

मिश्रा जी गेट पर आते हैं शर्मा जी शर्मा जी अरे शर्मा जी हो या खर्च हो गए हैं हा हा हा

(वाइफ आती है गुस्से में ङोर ओपन करती है तमीज नहीं है बात करने की अभी से भांग पी ली क्या, खर्च हो गए क्या होता है क्या पैसे वैसे हैं शर्मा जी जो खर्च हो गए

मिश्रा- जी अरे मेरा वह मतलब नहीं था भाभी जी हा हा हा,मैं तो यह बोल रहा था कि शर्मा जी को बुला दो होली पर तो बहुत रंग डाला था दिवाली पर पटाखे नहीं छोड़ेंगे

वाइफ- अच्छा लॉकडाउन में तो तुम रो रहे थे करवा चौथ में तुम्हारी जान निकली जा रही थी वाइफ को गिफ्ट देने में आप कैसे अंबानी बने फिर रहे हो क्या लॉटरी लग गई है क्या कहीं जो पटाखों में पैसे जलाओगे

मिश्रा- जी अरे भाभी जी आज दिवाली की रात है आज जो जो मैं खेलेगा वह जीतेगा मुझे उसका राज पता चल गया है आज पैसे ही पैसे होंगे शाम को

शर्मा जी- अरे कौन है डार्लिंग

वाइफ- और कौन होगा आपके लफंगे दोस्त हैं घर मैं तो पीट के भगा दिए जाते हैं दूसरों के घर आकर ज्ञान बांटते हैं

मिश्रा जी- अरे भाभी जी हा हा हा मजाक अच्छा करती हो आप इसलिए आप मेरी फेवरेट ऑफ

वाइफ- गुस्से में देखती है

शर्मा जी- अरे मिश्रा जी आइए आइए कैसे आना हुआ सब बढ़िया हालचाल दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं,(पादते हैं)

मिश्रा जी- अरे हाल-चाल तो बढ़िया है आप यह बताओ कि पटाखे जलाने क्यों नहीं आए होली पर तो बहुत रंग लगाया था अब चलो मेरे साथ और दिवाली के बम फोड़ते हैं

शर्मा जी- अरे नहीं नहीं मिश्रा जी काफी वायु प्रदूषण होता है पटाखे नहीं जलाने चाहिए दिवाली खुशियों का त्योहार है बस दीप जलाओ और खुश रहो साथ ही पाते हैं (पादते हैं)

मिश्रा जी-हां जी सही कहा एक दिन पटाखे जलाने से वायु प्रदूषण होगा और आप यह रोज-रोज गैस छोड़ते हैं इससे पता नहीं कितनी खतरनाक गैस निकलती है लोग मर सकते हैं

शर्मा जी-गुस्से में

मिश्रा जी- चलो कोई नहीं चलते हैं पटाखे फोड़ने रेडी है आप

शर्मा जी- अरे नहीं भैया हम नहीं जाएंगे हम हमें डर लगता है पटाखों से हम यही सही है आप छोड़िए पटक के

मिश्रा जी- अरे चलिए शर्मा जी मैं आपकी बात मैंने आपकी बात मानी थी होली पर तो आप भी चलिए अब मेरी बात मानिए वरना

शर्मा जी- वरना क्या नहीं वरना क्या घर पर आए हैं तमीज से बात करिए और सहयोग कीजिए स्वच्छ भारत है पटाखे ना छोड़िए

मिश्रा जी- अच्छा ठीक है जा रहा हूं मैं यह सिगरेट लाया था आपके लिए इसको तो पी लीजिए,

शर्मा जी- हां यह पी लेंगे इसमें क्या लाइए (सिगरेट निकाल के मुंह में लगाते हैं ब्लास्ट होता है बाल खड़े हो जाते हैं फेस ब्लैक)

मिश्रा जी- हा हा हा हा आया मजा और डालो कलर्स मेरे ऊपर कहा था ना बदला लूंगा दिवाली में , भाग जाते हैं |

https://www.hindiblogs.co.in/contact-us/ 
https://www.pmwebsolution.in/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here