जानिए हिरोशिमा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?.Know when and why Hiroshima Day is celebrated.

0
52

हिरोशिमा दिवस हर साल 6 अगस्त को मनाया जाता है। इस दिन अमेरिका ने साल 1945 में जापान के हिरोशिमा नगर पर लिटिल बॉय नामक यूरेनियम बम गिराया था।

इस बम का इतना गहरा प्रभाव पड़ा था कि 13 वर्ग किलोमीटर तक तबाही ही तबाही मची हुई थी इसी के साथ इस बम के कारण 3.5 लाख की आबादी में से लगभग एक लाख चालीस हजार लोग एक साथ ही मारे गए थे।

ये मारे जाने वाले लोग कोई सैनिक नहीं बल्कि बच्चे, महिलाएं, और बुजुर्ग थे। इसके बाद भी कई सालों तक अनगिनत लो विकिरण के प्रभाव से अपनी जान गंवाते रहे।

क्यों मनाया जाता है हिरोशिमा दिवस-Hiroshima Day

हिरोशिमा दिवस शुभ दिवस के रूप में मनाया जाता है क्योंकि इस दिन मानव के बनाए हुए एक बम ने लाखों जिंदगीयों को मौत के घाट उतार दिया था।

इस दिन को परमाणु के खतरे को याद दिलाने के लिए मनाया जाता है ताकि मनुष्य फिर से इस प्रकार की गलती को ना दोहराए। मनुष्य द्वारा की गई इसमें नाश्ता को याद रखने के लिए हिरोशिमा दिवस मनाया जाता है।

हिरोशिमा Hiroshima Day का इतिहास

अमेरिका ने हिरोशिमा में बम साल 1945 में 6 अगस्त को गिराया था। यह दूसरे विश्वयुद्ध की बात है जब अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा नगर में लिटिल बॉय नामक बम गिराया था।

उस समय का यह बम सबसे शक्तिशाली बम माना गया था। इस बम का प्रभाव इतना भयंकर था कि 13 किलोमीटर तक सिर्फ तबाही ही तबाही देखने को मिल रही थी। जिस जगह बम गिराया गया था, उसके आसपास की सब चीजें राख बना गयीं थी।

हिरोशिमा में जो परमाणु बम गिराया गया था उससे ऐसा धमाका हुआ कि 43 सेकेंड के अंदर ही कम से कम 80% हिस्सा जलकर राख हो गया था। किसी और देश द्वारा जापान पर हमला किए जाने वाला यह सबसे बड़ा और खतरनाक हमला था।

इतना बड़ा बम फेंकने के बाद भी अमेरिका चुप नहीं रहा। हिरोशिमा को तबाह करने के कुछ समय बाद अमेरिका ने नागासाकी पर फैट मैन नाम का प्लूटोनियम बम गिराया जिसमें लगभग 74 हजार से भी ज्यादा लोग मारे गए।

जहां एक तरफ हिरोशिमा जापान का मुख्य औद्योगिक केंद्र था वहीं दूसरी ओर नागासाकी जापानी सेना की 5वीं डिवीजन का मुख्यालय था। इस बम से जमीन भी 4000 डिग्री सेल्सियस गर्म हो गई थी।

हिरोशिमा को ही क्यों बनाया था निशाना

अमेरिका ने परमाणु बम गिराने के लिए हिरोशिमा को इसलिए चुना था क्योंकि अमेरिका के वायु सेना हमले में इसे टारगेट नहीं बनाया गया था। ऐसी स्थिति में परमाणु बम की क्षमता को भांपना आसान था। इसी के साथ हिरोशिमा जापान का मुख्य सैना का ठिकाना था।

इसी के साथ हिरोशिमा दिवस हर साल हिरोशिमा में हुए बम विस्फोट को‌ लेकर शोक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

https://www.pmwebsolution.in/
https://www.hindiblogs.co.in/contact-us/
मैं अंशिका जौहरी हूं। मैंने हाल ही में पत्रकारिता में मास्टर डिग्री हासिल की है। और मैं hindiblogs पर biographies, motivational Stories, important days के बारे में लेख लिखती हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here