सोच समझकर करें मित्रता-Be Thoughtful Friendship

0
13

अच्छा मित्र मिलता नहीं है। एक यही ऐसा रिश्ता है, जिसे हम अपने व्यवहार से खुद बनाते हैं।

एक सच्चा दोस्त Friendship ही हमें हर मुश्किलों से बचाता है। आखिर दोस्ती किस्से करनी चाहिए?

जिस व्यक्ति पर अपने परिवार का पालन पोषण करने की योग्यता न हो,

और जो व्यक्ति अपनी गलती होने पर भी दरे नहीं,

जिसे अपने किए पर कभी शर्मिंदगी महसूस न हो,

तो उदार और त्यागशील न हो, वैसे लोग दोस्ती के काबिल नहीं होते।

यदि कोई व्यक्ति अपने परिवार का भरण – पोषण सिर्फ आलस्य और जूते अभिमान की वजह से नहीं करता है

हमेशा व्यर्थ की बातों पर समय बर्बाद करता हो, ऐसे लोगों से दूर रहने में ही समझदारी है।

जो अपनी गलती होने पर किसी से न डरें, विद्वान और बुजुर्गों का आदर न करें उनसे मित्र नहीं करनी चाहिए।

जिनमे लज्जा का गुण ना हो, जो गलत काम करने में जरा भी संकोच न करें, उनसे भी मित्रता Friendship नहीं करनी चाहिए।

जिनमें दूसरों के लिए उदारता का गुण न हो, त्याग की भावना ना रखते हों, उनसे भी मित्रता Friendship नहीं करनी चाहिए।

https://www.pmwebsolution.in/

https://www.hindiblogs.co.in/contact-us/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here